सोमवार, 14 जून 2010

चोचलेबाज नेता

बिहार के मुख्यमंत्री श्री नितीश कुमार जी ने भाजपा की ओर से लगाये गये पोस्टर जिसमे उनको गुजरात के मुख्यमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के साथ दिखाया गया था, से नाराज हो गये, ( अपने को धर्मनिरपेक्ष जताने के लिये ) और बयान दे डाला कि " कोसी नदी में आई बाढ़ के वक्त गुजरात से मदद स्वरुप मिला धन सूद सहित वापस कर देंगे।" कितना घिनौना स्वरुप है यह राजनीती का। नितीश जी के इस बयान से उनकी मौकापरस्ती, संकीर्ण मानसिकता का पता चलता है। इस बयान से यह भी पता लगता है कि वे एक जननेता नही बल्कि दलविशेष के दल नेता हैं। कहीं भी किसी भी प्रकार की आपदा आने पर संवेदनशील व्यक्ति अपने सामर्थ्य के अनुसार मदद करता है। कोई भी मदद लेकर बाद में किसी अनबन के कारण ली गयी मदद को सूद सहित वापस करने कि बात नहीं करता, अगर करता है तो ऐसा व्यक्ति संवेदनहीन ही कहलायेगा।

धन्य हैं गुजरात के मुख्यमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी जिन्होंने गुजरात में आये भूकंप में बिहार से मिली सहायता को सहर्ष स्वीकार किया था और अब बिहार के लोगों को उनके द्वारा दी गयी सहायता का धन्यवाद भी कर रहे हैं। श्री नरेन्द्र मोदी जी जैसे नेता ही जन नेता की श्रेणी में आते हैं।

श्री नितीश कुमार जी से निवेदन है कि वे अपनी कुंठित मानसिकता एवं चोंचलेबाजी का त्याग करें जिससे वे एक सफल जन नेता कहला सकें।

वन्दे मातरम------

भारत माता कि जय------

2 टिप्‍पणियां:

  1. नमस्ते,

    आपका बलोग पढकर अच्चा लगा । आपके चिट्ठों को इंडलि में शामिल करने से अन्य कयी चिट्ठाकारों के सम्पर्क में आने की सम्भावना ज़्यादा हैं । एक बार इंडलि देखने से आपको भी यकीन हो जायेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. are ye bjp ki madad se malai to kha lenge par bjp ke netao se itni nafrat karte hai jiase ki...........|

    sab janta ke samne dhong faila raha hai..

    उत्तर देंहटाएं